A- A A+
Last Updated : Jul 14 2020 10:24AM     Screen Reader Access
News Highlights
India, China to hold Corps Commander-level talks at Chushul in Eastern Ladakh today            Political crisis continues in Rajasthan; Congress calls another legislative party meet in Jaipur today            Govt aims to increase public health expenditure to 2.5% of GDP by 2025            19 States, UTs report higher recovery rate than national average of 63.01%            WHO calls upon countries for comprehensive strategies to deal with Covid pandemic           

Text Bulletins Details


समाचार संध्या

2000 HRS
26.05.2020

मुख्य समाचार
:-

  • देश में कोरोना वायरस मरीजों के स्‍वस्‍थ होने की दर बढकर साढे 41 प्रतिशत से अधिक हुई। मृत्‍यु दर घटकर दो दशमलव आठ सात प्रतिशत पर पहुंची।

  • वंदे भारत मिशन के विस्‍तारित दूसरे चरण में साठ देशों से एक लाख फंसे हुए भारतीयों को वापस लाया जाएगा।

  • केन्‍द्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्‍ठ नेता प्रकाश जावडेकर ने कोविड-19 से मुकाबले के समय राजनीति करने के लिए कांग्रेस की कडी आलोचना की।

  • आरोग्‍य सेतू ऐप ओपन सोर्स पर। सरकार ने कहा- पारदर्शिता, निजता और सुरक्षा, ऐप की प्रमुख विशेषताएं।

  • स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने मरीजों की संख्‍या में बढोतरी वाले पांच राज्‍यों के हालात की समीक्षा की।

  • होटलों की स्‍वीकृति और वर्गीकरण की वैधता 30 जून तक बढाई गई।

  • उत्‍तर पश्चिम तथा मध्‍य भारत में भीषण लू का प्रकोप जारी। राजस्‍थान के चुरू में तापमान 50 डिग्री सेल्सियस पहुंचा।

-------------------------

देश में कोविड-19 रोगियों के ठीक होने की दर बढ़ कर 41 दशमलव छह एक प्रतिशत हो गई है, जो मार्च में सात दशमलव एक प्रतिशत थी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी ने आज नई दिल्ली में संवाददाताओं


अब देश में 60490 पीपुल रिकवर हो गए हैं और उसके साथ ही जो हमारा रिकवरी रेट 7.1 परसेंट करीब मार्च में थाख्‍ वह बढ़ते-बढ़ते 11.42 परसेंट ज‍बकि हमने सेकेंड लॉकडाउन शुरू किया। थ्रड लॉकडाउन शुरू करने के समय पर वह बढ़कर 26.59 परसेंट हुआ और आज हम देख रहे हैं कि फील्‍ड में एफटर्स वह लॉकडाउन के इस परेजेंट टाइम‍ में बढकर 41.61 परसेंट हो चुका है।


अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस के कारण मृत्यु दर तीन दशमलव तीन शून्य प्रतिशत से घट कर दो दशमलव आठ सात प्रतिशत रह गई है, जो विश्व में सबसे कम है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन और कंटेनमेंट के लिए सरकार के उपायों के कारण भारत में एक लाख की जनसंख्या में दस दशमलव सात लोग ही संक्रमित हुए। इसकी तुलना में विश्व में एक लाख की आबादी पर उनहत्तर दशमलव नौ लोग संक्रमित हुए। अधिकारी ने कहा कि एक लाख की आबादी पर विश्व में चार दशमलव पांच लोगों की मृत्यु हो रही है जबकि भारत में एक लाख की आबादी पर केवल शून्य दशमलव तीन लोगों की ही मृत्यु हो रही है, जो विश्व में सबसे कम है।


अधिकारी ने लोगों से हाथ धोने और सुरक्षित दूरी बनाए रखने के नियमों का पालन करने की अपील की। उन्होंने कहा कि घर से निकलते समय मास्क अवश्य पहनना चाहिए। अधिकारी ने बताया कि कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए बचाव और नियंत्रण के उपायों पर ध्यान देने की आवश्यकता है। कोविड-19 से बुजुर्गों की मृत्यु दर लगभग 50 प्रतिशत जबकि अऩ्य बीमारियों से भी जूझ रहे संक्रमित लोगों में मृत्यु दर 73 प्रतिशत है।


करीब 50 परसेंट डेथ केसेज एलडरी पोपुलेशन में रिपोर्ट हुए हैं और साथ ही करीब 73 परसेंट केसेज जो डेथ के हैं वो पीपुल वीद लॉ कॉमो‍र्बिडिटि में रिपोर्ट हुए हैं। तो हम परिवेंटी एस्‍पेक्टस को लेते हुए अपने घर में जो एलडरी हैं, अपने घर में वनरेबल  पोपुलेशन है उन सबको बचाने के लिए सारे प्रि‍वेन्‍टि‍व स्‍टेप्स लें। अगर हमारे को कोई भी ऐसा केस दिखता है कि जिसमें कोई हमारे को सिम्‍टम्स हैं तो हम गर्वमेंट द्वारा ओरगनाइज  की फेसिलिटिज को एक्‍सेज करेंगे।


भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के महानिदेशक ने बताया कि फिलहाल देश में रोजाना एक लाख से अधिक नमूनों की कोविड-19 जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि देशभर में अब 612 प्रयोगशालाओं में जांच की सुविधा उपलब्ध है।


हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के उपयोग के बारे में परिषद के महानिदेशक ने कहा कि यह दवा मलेरिया से निपटने में व्यापक रूप से इस्तेमाल की जा रही है और इसमें वायरसरोधी गुण भी हैं। उपलब्धता, सुरक्षा और अध्ययन के आंकड़ों के आधार पर परिषद ने डॉक्टर के मार्गदर्शन में परीक्षण के आधार पर निवारक उपचार के लिए यह दवा लेने की सिफारिश की थी। उन्होंने कहा कि  मितली और उलटी को छोड़ कर भारत में हुए अध्ययनों में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के किसी प्रमुख दुष्प्रभाव का पता नहीं चला। यह दवा कोविड-19 के निवारक उपचार के लिए इस्तेमाल की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट सलाह दी गई है कि यह दवा खाली पेट नहीं लेनी चाहिए। परिषद ने इस बात पर भी बल दिया कि उपचार के दौरान एक बार ईसीजी करा लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी से निपटने के कार्य में लगे अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं के लिए भी यह दवा लाभदायक मानी जा रही है

-------------------------

स्‍वास्‍थ्‍य सचिव प्रीति सूदन ने स्‍वास्‍थ मंत्रालय के अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ आज उत्‍तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्‍तीसगढ़ और मध्‍य प्रदेश के मुख्‍य सचिवों, स्‍वास्‍थ्‍य सचिवों और राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन के निदेशकों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उच्‍चस्‍तरीय समीक्षा बैठक की। इन राज्‍यों में पिछले तीन सप्‍ताहों के दौरान कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी दिखाई दी है। इस दौरान लॉकडाउन के नियमों में रियायतें दी गई हैं और एक राज्‍य से दूसरे राज्‍य में आने-जाने की इजाजत भी दे दी गई है।


बैठक में राज्‍यों को मृत्‍यु दर, रोगियों की संख्‍या के दोगुना होने की अवधि, प्रति एक लाख लोगों में से परीक्षण की दर और संक्रमण की पुष्टि वाले मामलों के प्रतिशत के आधार पर कोविड-19 के फैलाव के बारे में जानकारी दी गई। इसके अलावा रोकथाम की कारगर रणनीति पर भी चर्चा हुई।


इस बात पर भी जोर दिया गया कि हरेक कंटेनमेंट जोन का विश्‍लेषण किया जाए, ताकि रुझान के देखते हुए सुधार के प्रयास किए जा सकें। बफर जोन के अंदर की जाने वाली गतिविधियों पर भी चर्चा हुई। आरोग्‍य सेतु ऐप के जरिए प्राप्‍त हुए आंकड़ों का उपयोग करने को भी कहा गया।


गैर-कोविड आवश्‍यक स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं के बारे में राज्‍यों को याद दिलाया गया कि टीबी, कुष्‍ठ रोग और उच्‍च रक्‍तचाप तथा मधुमेह जैसे गैर-संचारी रोगों के इलाज के लिए भी तत्‍काल कदम उठाए जाने चाहिए।


यह भी सुझाव दिया गया कि क्‍वारिंटीन केंद्रों में मोबाइल चिकित्‍सा इकाइयां और अस्‍थायी स्‍वास्‍थ्‍य उप-केंद्र बनाए जाने चाहिए और उनमें अग्रिम पंक्ति के अतिरिक्‍त स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों की तैनाती की जानी चाहिए।


राज्‍यों को सलाह दी गई कि वे गर्भवती महिलाओं, पांच वर्ष से कम उम्र के बच्‍चों, बुजुर्गों और अन्‍य गंभीर बीमारियों वाले लोगों पर विशेष ध्‍यान दिया जाए। इसमें आंगनवाडी कार्यकर्ताओं का सहयोग लेने को भी गया गया। इस बात पर जोर दिया गया कि पांच साल से कम उम्र के बच्‍चों की पौष्टिक आहार संबंधी जरूरतों का ध्‍यान रखा जाए और उन्‍हें पोषण पुनर्वास केन्‍द्रों में भेजा जाए। 

 

सभी राज्‍य इस बात पर सहमत थे कि घर-घर जाकर सर्वेक्षण कराने के लिए विशेष निगरानी टीम बनाने, परीक्षण करने, रोगियों के संपर्क में आए व्‍यक्तियों का पता लागने और कारगर चिकित्‍सा प्रबंधन की व्‍यवस्‍था की जानी चाहिए।

-------------------------

कोरोना वायरस महामारी के इलाज में लगे स्‍वास्‍थ्य कर्मियों की सुरक्षा के लिए बनाए जाने वाले व्‍यक्तिगत सुरक्षा उपकरण -- पी. पी. ई. किट के नमूनों की जांच अब स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय द्वारा निर्धारित तकनीकी मानदंडों के अनुसार नौ प्रयोगशालाओं में की जा रही है। ये पी. पी. ई. स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों के पूरे शरीर को ढकने के लिए बनाए जाते हैं। परीक्षण के मानदंड विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के दिशा-निर्देशों के अनुसार हैं। पी. पी. ई. को इस तरह से बनाया जाता है कि विषाणुओं को फैलाने वाले तरल पदार्थ या सूक्ष्‍म कण इनके आर-पार न गुजर सकें। सभी सरकारी खरीद एजेंसियां और निजी अस्‍पतालों को सलाह दी गई है कि वे प्रमाणित एजेंसियों से ही सामग्री की खरीद करें। पी. पी. ई. में अंदर की ओर विशिष्‍ट प्रमाण संख्‍या मुद्रित होना जरूरी है। खरीद एजेंसियों को यह भी सलाह दी गई है कि वे  आपूर्तिकर्ताओं द्वारा भेजे गए सामान में से नमूने एकत्र करें और मान्‍यता प्राप्‍त प्रयोगशालाओं में उनकी जांच करवा लें।

-------------------------

स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों से यह अपील दोहराई है कि कोविड-19 महामारी को फैलने से रोकने के लिए हाथ धोने और सुरक्षित दूरी बनाए रखने के नियमों का पालन किया जाए।  मंत्रालय ने ट्वीटर पर कहा कि नए दिशा-निर्देशों के अनुसार लोगों को हमेशा सुरक्षित दूरी बनाए रखने, साबुन और पानी से हाथ धोने या एल्कोहल युक्त हैंड सैनिटाइज़र के इस्तेमाल जैसे नियमों का पालन करना चाहिए। सार्वजनिक स्थानों पर थूकना दंडनीय अपराध बनाया गया है। इससे वायरस फैलने का जोखिम भी बढ़ सकता है।


स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने लोगों से बाहर निकलते समय फेस मास्‍क के प्रयोग पर जोर दिया है ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सके। इसके साथ ही लोगों से यह भी कहा गया है कि वे सही सूचनाओं का प्रसार करें और इस बिमारी के लक्षण पाए जाने वाले व्‍यक्तियों को जांच कराने के प्रति जागरूक करें। स्टिग्‍मा को दूर करने की जरूरत है क्‍योंकि इसकी वजह से लोगों की शीघ्र मदद में देरी हो सकती है जिससे उनका स्‍वास्‍थ्‍य और बिगड़ सकता है। लोगों की सुरक्षा के लिए यह जरूरी है कि वे दो गज की दूरी का पालन करें। साथ ही उन्‍हें अपने नाक और मुंह को भी छुने से बचना चाहिए, लोगों को तम्‍बाकू सेवन का प्रयोग नहीं करना चाहिए तथा सार्वजनिक स्‍थानों पर नहीं थूकना चाहिए। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने यह भी कहा है कि यदि किसी व्‍यक्ति को इस बिमारी के लक्षण दिखते हैं तो उसे हेल्‍पलाइन नंबर 1075 पर संपर्क करना चाहिए। आनंद कुमार, आकाशवाणी समाचार, दिल्‍ली।

-------------------------

विदेशमंत्री एस० जयशंकर ने आज वंदेभारत मिशन की समीक्षा की। बैठक में अभियान को अधिक प्रभावी बनाने पर विचार किया गया। डॉ० जयशंकर ने बताया कि वंदेभारत मिशन के दूसरे चरण के विस्‍तार पर विचार विमर्श किया गया। इसके तहत 60 देशों से एक लाख भारतीयों को स्‍वदेश लाया जाएगा। उन्‍होंने बताया कि अभियान के तीसरे चरण की तैयारियों पर भी चर्चा की गई। प्रवेश स्‍थलों को बढाने और फीडर उडानों की भी योजना बनाई जा रही है।


विदेशमंत्री ने यह भी बताया कि ईरान से भारतीय मछुआरों को लाने का काम जून में किया जाएगा।

-------------------------

वंदेभारत मिशन के तहत विदेश से नौ विमानों में भारतीयों को केरल लाया जा रहा है। इनमें से आठ खाडी क्षेत्र से और एक इस्राइल से भारतीयों को लेकर आएगा। अबूधाबी, दुबई और बहरीन से यात्रियों को लेकर विमान आज देर शाम कोझीकोड पहुंचेंगे। दो विमान कोच्चि पहुंचेंगे, जिनमें एक दुबई से और एक दूसरा तल अवीव से भारतीयों को लेकर आ रहा है। दुबई और अबूधाबी से दो विमान तिरूअनंतपुरम और कन्‍नूर पहुंचेंगे।

-------------------------

बिहार में वंदे भारत मिशन के अन्‍तर्गत एयरइंडिया का चौथा विमान बिश्‍केक किर्गिस्‍तान से फंसे 127 यात्रियों को लेकर आज शाम गया अन्‍तर्राष्‍ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचा।


राज्‍य सरकार ने यात्रियों के लिए एक होटल की व्‍यवस्‍था की है। गया हवाई अड्डे पर छह विमानों का आना निर्धारित है। ये विमान अगले महीने की तीन तारीख तक आयेंगे।


प्रवासी विमान यात्रियों को 14 दिनों के लिए क्‍वारंटीन में भेज दिया गया है। राज्‍य सरकार ने इसके लिए बोधगया स्थित विभिन्‍न होटलों में इंतजाम किया है। होटल में क्‍वारंटीन के लिए यात्रियों को स्‍वयं खर्च वहन करना होगा। आज के पहले 18 मई, 24 मई और 25 मई को लंदन, मस्‍कट और दोहा में फंसे बिहार और झारखंड के प्रवासी यात्री आ चुके हैं। एक जून को कज़ाकिस्‍तान और तीन जून को मोस्‍को में फंसे प्रवासी यात्री गया आएंगे। आकाशवाणी समाचार पटना से कृष्‍ण कुमार लाल।

-------------------------

आंध्रप्रदेश में घरेलू विमान सेवाएं आज से फिर शुरू हो गई। एक निजी विमान कम्‍पनी की उड़ान बेंगलूरू से उनासी यात्रियों को लेकर आज विजयवाड़ा पहुंची। यही विमान 68 यात्रियों को लेकर बेंगलूरू वापिस गया। एक अन्‍य विमान भी बेंगलूरू से 48 यात्रियों को लेकर विजयवाड़ा पहुंचा और पचास यात्रियों को वापिस ले गया। विशाखातत्‍तनम हवाई अड्डे पर भी आज हैदराबाद-बेंगलूरू और दिल्‍ली से उड़ाने पहुंचेगी। 


राज्‍य सरकार के अधिकारियों के अनुसार दिल्‍ली से आने वाले यात्रियों को एक सप्‍ताह तक स्‍वयं को क्‍वारंटीन करने की व्‍यवस्‍था करनी होगी और इसके अलावा एक सप्‍ताह घर पर रहना होगा।

-------------------------

पश्चिम बंगाल में घरेलू उड़ान सेवाएं बृहस्पतिवार से फिर शुरू हो जाएंगी। इसके तहत कोलकाता के नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे, सिलिगुड़ी में बागडोगरा और पश्चिमी बर्दवान जिले में अंदल हवाई अड्डे से विमान सेवाएं चलेंगी। देश के अन्य राज्यों में कल से घरेलू उडानें फिर शुरु हुईं, लेकिन पश्चिम बंगाल सरकार के आग्रह के बाद राज्य के लिए यह फैसला तीन दिन तक टाल दिया गया था। पश्चिम बंगाल सरकार ने घरेलू विमान यात्रियों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं।


पश्चिम बंगाल सरकार ने हवाई यात्रा करने के लिए 10 बिंदुओं का परमार्श जारी किया है। हवाई अड्डे में आने वाले पर सभी यात्रियों की स्‍वास्‍थ्‍य जांच की जाएगी। संक्रमण के लक्षणों से मुक्‍त यात्रियों को इस सलाह पर यात्रा की अनुमति दी जाएगी कि वे 14 दिनों के लिए स्‍व-निरीक्षण करेंगे। बाद में यदि उनमें कोविड-19 के लक्षण पाए जाते हैं तो वे स्‍थानीय अस्‍पताल को सूचना देंगे। यात्रियों को हवाई अड्डे में बोर्डिंग और यात्रा के दौरान फेस मास्‍क लगाना अनिवार्य होगा। यात्रियों को स्‍वच्‍छता और सुरक्षित दूरी के मानकों का पालन करना होगा। केवल ऐसे व्‍यक्तियों को ही जहाज में जाने की अनुमति दी जाएगी  जिनमें कोविड-19 के लक्षण नहीं हेांगे। संक्रमित यात्रियों के नमूने एकत्रित करने के बाद निकट के समर्पित कोविड केन्‍द्र में भेजे जाएंगे। राज्‍य सरकार ने सभी यात्रियों से आगमन के समय स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को सेल्‍फ डि‍क्‍लेरेशन फॉर्म जमा करने का अनुरोध भी किया है। अरीजित चक्रवर्ती की रिपोर्ट के साथ समाचार कक्ष से दीपिका शर्मा।

-------------------------

नागर विमानन मंत्रालय ने चार्टर्ड और निजी विमानों को उड़ान की अनुमति दे दी है। इनमें हेलीकॉप्‍टर और माइक्रो लाइट विमान भी शामिल हैं। इन सेवाओं का लाभ लेने वाले व्‍यक्तियों को उड़ान से कम से कम 45 मिनट पहले हवाई अड्डे पहुंचना होगा। हालांकि बहुत वृद्ध व्‍यक्तियों, गर्भवती महिलाओं और गंभीर रूप से बीमार लोगों को इन सेवाओं का उपयोग न करने की सलाह दी गई है। एयर एम्‍बुलेंस के मामले में यह शर्त लागू नहीं होगी। मंत्रालय ने कहा है कि सभी यात्रियों के  आरोग्‍य सेतू ऐप की जांच की जाएगी।

-------------------------

केन्‍द्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने आज कहा कि जब देश कोविड-19 का मुकाबला कर रहा है उस समय कांग्रेस राजनीति कर रही है। नई दिल्‍ली में उन्‍होंने कहा कि जहां समूचा विश्‍व सही समय पर भारत में लॉकडाउन लगाने की सराहना कर रहा है वहीं कांग्रेस इसकी आलोचना कर रही है।


जब लॉकडाउन लगा तब तीन दिन में संक्रमण की संख्या डबल हो रही थी। आज ये दर कम होकर भारत की सफलता है और मुझे आश्चर्य होता है जब लॉकडाउन लगा तब कांग्रेस ने हायतौबा मचाया कि लॉकडाउन क्यों लगाया। पूरे देश में क्यों लगाया। अर्थव्यवस्था तबाह हो जाएगी। यानि जब लगा तो भी विरोध किया। अब अगर उठ रहा है तो उसका भी विरोध करेंगे।


प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि 45 लाख श्रमिकों को तीन हजार विशेष रेलगाडि़यों के जरिए उनके गृह राज्‍य पहुंचाया गया है।

-------------------------

देश में कोविड-19 रोगियों के सम्पर्क में आए रोगियों का पता लगाने, संक्रमण के क्षेत्रों की जानकारी और स्व-आकलन के लिए महत्वपूर्ण मोबाइल ऐप आरोग्य सेतु अब ओपन सोर्स हो गया है। नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने आज नई दिल्ली में यह घोषणा करते हुए कहा कि पारदर्शिता, निजता और सुरक्षा आरंभ से ही आरोग्य सेतु के मुख्य सिद्धांत रहे हैं। डवेलेपर कम्युनिटी के लिए सोर्स कोड खुलने से इस बात के महत्व का पता चलता है कि सरकार इन सिद्धांतों के लिए अब भी प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि यह अनोखी बात है क्योंकि विश्व में कहीं भी किसी भी सरकारी उत्पाद को इस हद तक ओपन सोर्स नहीं किया गया है।


श्री अमिताभ कांत ने कहा कि आज ग्यारह करोड़ पचास लाख लोग आरोग्य सेतु ऐप इस्तेमाल कर रहे हैं। इसे प्रत्येक स्मॉर्ट फोन पर डाउनलोड किया जा सकता है। यह ऐप 12 भाषाओं में उपलब्ध है।

-------------------------

सरकार ने पर्यटन उद्योग को एक बड़ी छूट देते हुए होटलों और आवासीय इकाइयों की स्‍वीकृति और वर्गीकरण की वैधता की तारीख 30 जून तक के लिए बढ़ा दी है। पर्यटन मंत्रालय होटलों का वर्गीकरण स्‍टार रेटिंग के आधार पर करता है। इसके अंतर्गत विभिन्‍न सुविधाओं को ध्‍यान में रखते हुए होटलों को पांच सितारा, पांच सितारा डीलक्‍स, लेगेसी विंटेज, होम स्‍टे, गेस्‍ट हाउस जैसी विभिन्‍न श्रेणियों में रखा जाता है।


सरकार ने फैसला किया है कि जिन होटलों और अन्‍य आवास इकाइयों की स्‍वीकृति या प्रमाण पत्र की वैधता समाप्‍त होने वाली है या समाप्‍त हो चुकी है, अब 30 जून तक के लिए वैध होगी। 


इसके अलावा पर्यटन मंत्रालय ने सभी श्रेणियों के टूर ऑपरेटरों, ट्रैवल एजेंटों और टूरिस्‍ट ट्रासपोर्ट ऑपरेटरों को दी गई स्‍वीकृति भी छह महीने के लिए बढ़ा दी है। पहले से स्‍वीकृति प्राप्‍त ऐसे ऑपरेटर जिनकी वैधता अवधि 20 मार्च से लॉकडाउन जारी रहने की अवधि के दौरान समाप्‍त होने वाली है या हो गई है, अगर उन्‍होंने नवीकरण के लिए आवेदन किया है, तो उसे भी बढ़ा दिया गया है।

-------------------------

महाराष्ट्र में बृ़हन्न मुम्बई नगर निगम ने वायरस के संक्रमण की कड़ी तोड़ने के लिए नई नीति बनाई है। मुम्बई में कोविड-19 के कारण रोगियों की मृत्यु की बढ़ती संख्या के मद्देनजर यह फैसला किया गया है। मुम्बई नोवेल कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट बन गई है।


इसके तहत ऐसे कम से कम 15 उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों को अलग करने पर ध्यान दिया जाएगा, जो किसी संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आए हों।


मुंबई नगर निगम आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने कहा कि शहर के हर कोने से कोविड-19 वायरस को हटाना बीएम सी का प्रमुख उद्देश्य है। मुंबई में संवाददाता से हुए बातचीत में आज चहल ने बताया कि कोविड-19 वायरस के संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ना ही मुंबई शहर में इस वायरस के बढ़ते मामलों को काबू में लाने का एक ही तरीका है। शहर में आज कोविड-19 के 31000 मामले दर्ज हुए है। जिनमें से 22000 एक्टिव मरीजों पर शहर के विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है। लगभग 17000 मरीज पूरी तरह से ठीक हो कर घर जा चुके हैं। मुंबई में अभी तक कुल 1,75000 लोगों का परीक्षण हो चुका है। उन्होंने कहा बीएमसी द्वारा हर तरह की स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने पर जोर दिया जा रहा है। चहल ने कहा कि बीएमसी ने हाल ही में उबेर कंपनी के साथ करार किया है जिसकी टैक्सी सेवा की मदद से शहर के प्रमुख अस्पतालों में मरीजों की आवाजाही में सुविधा होगी। कुणाल शिंदे के साथ, देवप्रियो भट्टाचार्य, आकाशवाणी समाचार, मुंबई।

-------------------------

झारखंड के हजारीबाग जिले में कोराना पॉजिटिव दो गर्भवती महिलाओं ने पूरी तरह स्‍वस्‍थ बच्‍चों को जन्‍म दिया। ये दोनों बच्‍चे कोरोना से संक्रमित नहीं हैं। जिन्‍हें आज अस्‍पताल से छुट्टी दे दी गई।


डॉक्टर्स और कोरोना योद्धाओं के निरंतर प्रयासों के फलस्वरूप कोरोना से संक्रमित मरीज ठीक होकर वापिस घरों को लौट रहे है। इसी कड़ी में आज झारखण्ड के हज़ारीबाग़ ज़िले के हज़ारीबाग़ मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल से 5 मरीज ठीक होकर वापिस लौटे। जिनमें दो प्रसूता महिलाऐ भी शामिल है। दोनों महिलाएं कटकमसांडी प्रखंड की है और गर्भावस्था के दौरान जांच में इनकी कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी। दोनों महिलाओं के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि के बाद दोनों को इलाज के लिए हज़ारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती किया गया। प्रसव के बाद सुरक्षा को ध्यान में रखकर दोनों ने अपने-अपने नवजात को स्तनपान भी कराया, लेकिन नवजात कोरोना से बचे रहे। दोनों नवजात शिशुओं के कोरोना नेगेटिव होने से माँ के दूध की सिद्धता दुबारा से साबित हो गयी। हज़ारीबाग़ के सिविल सर्जन डॉ संजय जायसवाल ने बताया कि ये हमारे लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।


पांच मरीज जो कल नेगेटिव हुए थे आज उनको हम घर भेज रहे हैं। वो नेगेटिव हो गए हैं वो घर जा सकते हैं। बच्‍चे इम्‍युनिटी बढि़या होगा। मां का ब्रेस्‍ट फिडिंग हुआ इससे भी इम्‍युनिटी बढ़ता है और अच्‍छी बात है। हज़ारीबाग़ से शाद्वल कुमार के साथ आकाशवाणी समाचार के लिए मैं रांची से शिल्पी।

-------------------------

भारत ने सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की भागीदारी से महत्‍वपूर्ण उपलब्धियां प्राप्‍त की हैं, जिनसे कोविड-19 रोगियों के परीक्षण के लिए आर टी पी सी आर टेस्‍ट किट के उत्‍पादन में मदद मिलेगी। नेशनल बायोमेडिकल रिर्सोस इं‍डिजिनाइजेशन कंसोर्टियम की कार्यकारी परिषद की अध्‍यक्ष डॉ. किरण मजूमदार शॉ ने कहा है कि बंगलुरु स्थित भारतीय विज्ञान संस्‍थान और एक निजी कंपनी रिचकोर लाइफ साइंसेज के सहयोग से दो ऐसे एंजाइम्‍स --पोलीमेरेस और रिवर्स ट्रांसक्रेप्‍टेस की खोज की गई है, जिनका उपयोग आर टी पी सी आर टेस्‍ट किट बनाने में किया जा सकता है।

-------------------------

लद्दाख के उपराज्यपाल आर.के. माथुर और केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने आज नई दिल्ली में नवगठित केंद्र शासित प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति और विकास गतिविधि फिर शुरू करने सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। उपराज्यपाल ने इस महामारी के दौरान केंद्रीय सहायता सुलभ कराने और रोजाना समर्थन के लिए डॉ. सिंह को धन्यवाद दिया।

-------------------------

अरुणाचल प्रदेश में शिक्षा विभाग लॉकडाउन की अवधि के दौरान विद्यार्थियों को शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए प्रयास कर रहा है। राज्य की शिक्षा सचिव निहारिका राय ने आकाशवाणी को बताया कि इस सप्ताह से डीडी अरुणप्रभा चैनल पर रोजाना कक्षा छह से आठ के लिए ऑनलाइन कक्षाएं प्रसारित की जाएंगी। शिक्षा सचिव ने बताया कि विभाग ने मध्य जून से स्कूलों को फिर खोलने का प्रस्ताव सरकार को दिया है।

-------------------------

सरकार ने आज फिर कहा है कि वह देशभर में, खासतौर पर पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में उच्‍च गुणवत्‍ता युक्‍त शिक्षा और शिक्षा के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए वचनबद्ध है। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि सरकार ने इस साल शिक्षा के क्षेत्र में कई बड़े फैसले किए हैं। उन्‍होंने कहा कि यांगयांग में सिक्क्मि विश्‍वविद्यालय का स्‍थायी परिसर बनाने की अनुमति दे दी गई है। सिक्किम सरकार ने विश्‍वविद्यालय के लिए तीन सौ एकड़ जमीन आवंटित की है, जिसमें से करीब दो सौ 66 एकड़ जमीन हस्‍तांतरित की जा चुकी है।


श्री निशंक ने कहा कि सरकार ने अरूणाचल प्रदेश, मिजोरम, मेघालय, नगालैंड, दिल्‍ली और पुदुच्‍चेरी में छह राष्‍ट्रीय टेक्‍नोलॉजी संस्‍थानों के लिए चार हजार तीन सौ 71 करोड़ रुपये पहले ही स्‍वीकृत कर दिए हैं।

-------------------------

मछली पालन, डेयरी और पशु पालन मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा है कि केन्‍द्र ने मछली पालन क्षेत्र पर विशेष जोर दिया है। नई दिल्‍ली में आज उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा शुरू की गई नीली क्रांति, आर्थिक क्रांति की दिशा में अग्रसर हो रही है। उन्‍होंने कहा कि नीली क्रांति के अंतर्गत सरकार रोजगार, उत्‍पादन और निर्यात पर ध्‍यान केन्द्रित कर रही है।

-------------------------

सरकार ने रेलगाडियों में भूख के कारण दस लोगों की मौत की खबर को गलत बताया है। पत्र सूचना कार्यालय-पीआईबी ने कहा है कि भूख के कारण ऐसी मौत होने की कोई खबर नहीं है। पीआईबी ने लोगों से ऐसी अपुष्‍ट खबरें न फैलाने को कहा है।

-------------------------

आकाशवाणी का समाचार सेवा प्रभाग आज अपने फोन इन कार्यक्रम में अंग्रेजी और हिन्‍दी में कोविड-19 पर विशेष परिचर्चा प्रसारित करेगा। यह कार्यक्रम रात नौ बजकर 25 मिनट से एफएम गोल्‍ड और अतिरिक्‍त चैनलों पर सुना जा सकता है। श्रोता फोन नंबर 0 1 1 2 3 3 1 4 4 4 4 और 1 8 0 0 1 1 5 7 6 7 पर कॉल कर विशेषज्ञ से सवाल पूछ सकते हैं। 

-------------------------

आकाशवाणी से विशेष बातचीत में दिल्ली के डॉ राममनोहर लोहिया अस्पताल के वरिष्ठ स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ ए. के. वार्ष्णेय ने लोगों को सलाह दी है कि अगर उन्हें कोई भी लक्षण दिखे तो वे तुरंत डॉक्टर के पास जाएं, और जरूरी हो तो संक्रमण को रोकने के लिए खुद को आइसोलेट कर लें।


अगर कोई व्‍यक्ति जो आपके संपर्क में है या जान पहचान जिसको आप देख रहे हैं बुखार हो रहा है या खांसी हो रहा है उसको तुरंत ही कहें कि आप अपने को आइसोलेट कर लीजिए तुरंत नजदीकी स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र पर जा के अपनी जांच कराइये। सरकार ने हेल्‍प लाइन नम्‍बर दिए हैं आप उनको कॉनटेक्‍ट कर सकते हैं। आपको बताएंगे कि आपके एरिया में कौन-सा हॉस्पिटल है जिसमें आप अपनी जांच करा सकते हैं। अगर उस जांच में आप पॉजीटिव आते हैं तो फिर उसके हिसाब से आपको आइसोलेट होना पड़ेगा और जो भी उचित उपचार होगा वो अस्‍पताल वाले बताएंगे।

-------------------------

मौसम विभाग ने कहा है कि देश के उत्तर-पश्चिम और मध्य भागों में लू का प्रकोप जारी है। चंडीगढ, राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार और झारखंड के कुछ हिस्सों में अगले दो और तीन दिन में लू का प्रकोप जारी रह सकता है।

-------------------------

राजस्‍थान चिलचिलाती गर्मी और भीषण लू की चपेट में है। चूरू राज्‍य का सबसे गर्म स्‍थान रहा, जहां आज तापमान 50 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। पिछले दस सालों में यहां दूसरी बार इतना ज्‍यादा तापमान रहा।

-------------------------

कल के मौसम के पूर्वानुमान पर:-


देश के उत्‍तर-पश्चिम और मध्‍य भागों में तेज गर्मी पड रही है। दिल्‍ली में अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस और न्‍यूनतम 28 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा। मुंबई में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे और शहर का तापमान 35 डिग्री सेल्सियस और 28 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने का अनुमान है। दक्षिण की ओर चलें तो चेन्‍नई में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। तापमान अधिकतम 37 डिग्री सेल्सियस और न्‍यूनतम 29 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहेगा। कोलकाता में आमतौर पर बादल छाए रहेंगे। कहीं-कहीं गरज के साथ बौछार हो सकती है। कोलकाता शहर में 33 डिग्री अधिकतम तापमान और न्‍यूनतम 28 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। उत्‍तर की ओर जम्‍मू कश्‍मीर के मौसम का पूर्वानुमान है कि जम्‍मू में 42 डिग्री सेल्सियस तक तापमान जा सकता है वहीं न्‍यूनतम 25 डिग्री सेल्सियस तापमान रहेगा। जम्‍मू में आमतौर पर आसमान साफ रहेगा। शाम के समय बादल रहने का अनुमान है। श्रीनगर में पारा 32 डिग्री सेल्सियस और 13 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा। गिलगित में आमतौर पर आसमान साफ रहेगा। न्‍यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम 36 डिग्री सेल्सियस पर रहेगा। मुजफ्फराबाद में आसमान साफ रहेगा लेकिन दोपहर या शाम के समय बादल छाए रहेंगे। पारा 19 डिग्री सेल्सियस से 39 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने का मौसम विभाग का पूर्वानुमान है। समाचार कक्ष, लवलीन निगम।

-------------------------

जम्‍मू-कश्‍मीर के गांदरबल जिले के तुलमुल्‍ला गांव में 30 मई को आयोजित होने वाले वार्षिक खीर भवानी मेले को कोरोना वायरस के कारण जम्‍मू कश्‍मीर धर्मार्थ न्‍यास द्वारा रद्द कर दिया गया है।


जम्‍मू-कश्‍मीर धर्मार्थ ट्रस्‍ट ने घोषणा की है कि इस साल तीस मई को कश्‍मीर घाटी के गांदरबल जिल के तुलमुला गांव में होने वाला वार्षिक खीर भवानी मेला कोरोना महामारी के प्रकोप के बाद अभूतपूर्व परिस्‍थतियों के कारण नहीं मनाया जाएगा। हालांकि पवित्र अनुष्‍ठान और भगवती मां की आरती परम्‍परा के अनुसार आयोजित की जाएगी। जो भक्‍तों के साथ सोशल मीडिया के माध्‍यम से साझा की जाएगी। यहां ये उल्‍लेख करना महत्‍वपूर्ण है कि इस वार्षिक में मेले में देशभर से लाखो तीर्थ यात्री प्रमुख रूप से कश्‍मीरी पंडित समुदाय देवी मां का आर्शीवाद पाने के लिए आते हैं। ये माना जाता है कि माता खीर भवानी के चारो ओर झरने का पानी कश्‍मीर घाटी के हालात के बारे में संकेत देता रहता है। आकाशवाणी समाचार के‍ लिए मैं श्रीनगर से सुनील कौल।

-------------------------

सडक परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आज चारधाम संपर्क परियोजना के तहत चम्‍बा में बनाई गई 440 मीटर लम्‍बी सुरंग का उद्घाटन किया। उन्‍होंने सीमा सडक संगठन के अधिकारियों से कहा कि इस सुरंग से चारधाम राजमार्ग के ऋषिकेश-धरासू और गंगोत्री मार्ग के यात्रियों के समय में काफी बचत होगी। इससे चम्‍बा में भीडभाड से राहत मिलेगी और क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास को भी बढावा मिलेगा। श्री गडकरी ने बताया कि यह परियोजना निर्धारित समय से तीन महीने पहले अक्‍तूबर में पूरी होगी।

-------------------------

Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 14 (Jul) Midday News 13 (Jul) Evening News 13 (Jul) Hourly 14 (Jul) (1010hrs)
समाचार प्रभात 14 (Jul) दोपहर समाचार 13 (Jul) समाचार संध्या 13 (Jul) प्रति घंटा समाचार 14 (Jul) (1000hrs)
Khabarnama (Mor) 14 (Jul) Khabrein(Day) 13 (Jul) Khabrein(Eve) 13 (Jul)
Aaj Savere 14 (Jul) Parikrama 13 (Jul)

Listen Programs

Market Mantra 13 (Jul) Samayki 13 (Jul) Sports Scan 23 (Mar) Spotlight/News Analysis 13 (Jul) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 13 (Jul) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar) Sanskrit Saptahiki 12 (Jul)
  • Money Matters 22 (Mar)
  • International News 22 (Mar)
  • Press Review 23 (Mar)
  • From the States 23 (Mar)
  • Let's Connect 22 (Mar)
  • 360°- Ek Parivesh 23 (Mar)
  • Know Your Constitution 30 (Jan)
  • Ek Bharat Shreshta Bharat 22 (Mar)
  • Sanskriti Darshan 23 (Mar)
  • Fit India New India 23 (Mar)
  • Weather Report 21 (Mar)
  • North East Diaries 22 (Mar)
  • 150 Years of Bapu 22 (Mar)
  • Sector Specific Discussions 22 (Mar)